Sunday, October 19, 2008

उल्फत

राख में लिपटे हुए अरमान जिंदा लगते हैं,
मरके भी भूले ना तुझको ये करम उल्फत का है।

No comments:

Post a Comment