Sunday, October 19, 2008

कलम

कोशिशें करता हूँ लिखने की मगर ना जाने क्यूँ,
खून बहता है कलम से नाम लिखते ही तेरा

2 comments: