Sunday, October 19, 2008

जलवा-ए-यार

उफ्फ ये जलवे उफ्फ अदाएं उफ्फ शरारे हुस्न के,
मैं कैसे दिल को अपने सीने में लिए फिरता रहूँ

No comments:

Post a Comment