Sunday, October 19, 2008

कफ़न

कफ़न है मेरा ये मेरी चाहतें ये हसरतें,
इनके रहते जी सकूँगा है नहीं मुमकिन यहाँ

No comments:

Post a Comment